दिल्ली-एनसीआर के मोबाइल यूजर्स अब अपने खोए या चोरी मोबाइल हुए फोन का पता लगा सकेंगे। इसके लिए सरकार एक वेब पोर्टल www.ceir.gov.in लेकर आई है। इस वेब पोर्टल के जरिए आप अपने खोए हुए और चोरी हुए मोबाइल फोन को बंद करवा सकेंगे और उसको ट्रेस कर सकेंगे। अभी यह सेवा फिलहाल दिल्ली और मुंबई में शुरू की गई है। आगे जाकर यह देश के और हिस्सों में भी शुरू की जाएगी।

शिकायत दर्ज के लिए डॉक्यूमेंट्स
पोर्टल www.ceir.gov.in पर अपनी शिकायत फाइल करने के लिए आपके पास पुलिस के पास दर्ज एफआईआर की कॉपी और अपना पहचान पत्र और आपके फोन का बिल होना चाहिए। इसके आधार पर मोबाइल को ब्लॉक कर दिया जाएगा। अगर किसी ने इस फोन को इस्तेमाल किया होगा तो उसे टावर सिग्नल के आधार पर ढूंढा जा सकता है। इससे पुलिस मोबाइल भी बरामद कर सकती है।

IMEI नंबर
IMEI नंबर एक यूनिक नंबर है, जो हर मेबाइल को दिया जाता है। अगर आपका फोन चोरी हो जाता है तो पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराते वक्त आपको IMEI नंबर की जरुरत होगी। इसकी फुल फॉर्म इंटरनेशनल मोबाइल इक्विपमेंट आइडेंटिटी (IMEI) नंबर है। अगर आपका मोबाइल चोरी हो गया है तो आप इसे अपने मोबाइल फोन के बिल और इसके बॉक्स से भी ले सकते हैं। लेकिन इसे कभी भी किसी बाहरी इंसान के साथ शेयर नहीं करना चाहिए।  इसके अलावा पहले से भी फोन में *#06# डायल करके भी आप IMEI नंबर को नोट कर सकते हैं। IMEI नंबर प्रोग्राम करने लायक है और अपराधी किस्म के लोग IMEI नंबर को रि-प्रोग्राम कर देते हैं , जिस कारण IMEI की क्लोनिंग होती है। इस वजह से एक ही नंबर पर कई हैंडसेट चल रहे हैं। अगर इस तरह के IMEI को बंद किया जाता है असल ग्राहक पर भी असर पड़ता है। अब जो सॉफ्टवेयर विकसित किया गया है, वह किसी भी व्यक्ति के फोन को बंद करने की अनुमति देता है, भले ही उसमें क्लोन किया हुआ IMEI नंबर पर हो। अपने फोन को जानने के लिए आप 15 डिजिट का IMEI नंबर टाइप करें और 14422 पर एसएमएस कर दें। अगर मोबाइल स्टेट्स में ब्लैक लिस्टेड और डुप्लीकेट या फिर पहले से इस्तेमाल में लिखा हो तो इस तरह के फोन को न खरीदें।

ऐसे लगाए गुम हुए मोबाइल फोन का पता
इसके लिए सबसे पहले आपको जिस जगह आपका मोबाइल चोरी हुआ है वहां के नजदीकी पुलिस स्टेशन में जाना होगा। इसके बाद आपको एफआईआर की कॉपी और आईडी प्रूफ की कॉपी के साथ पोर्टल ceir.gov.in पर नंबर ब्लॉक कराना होगा। इसके बाद आप एफआईआर की कॉपी और आईडी प्रूफ के साथ नए सिम कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं। फोन के IMEI नंबर को ब्लॉक कराने के लिए सबसे पहले ceir.gov.in पर जाएं। यहां आपको Block Stolen lost mobile, Unblock found mobile और Check status के लिंक दिखेंगे। नंबर ब्लॉक करने के लिए आपको Block Stolen lost mobile पर क्लिक करना होगा। यहां आपको रजिस्ट्रेशन नंबर भरना होगा। इसके बाद आपको एक आईडी रिक्वेस्ट मिलेगी। इसके अलावा ओटीपी के लिए आपको एक और मोबाइल नबंर देना होगा, जिस पर ओटीपी आएगा और आपकी शिकायत पोर्टल पर दर्ज हो सकेगी। यह मिलने के बाद आप अपने मोबाइल फोन को ट्रैक करने के लिए कर सकते हैं। मोबाइल फोन मिलने पर आप ब्लॉक किए गए IMEI को अनब्लॉक के लिए आपको Unblock found mobile पर क्लिक कर डिटेल्स भरनी होंगी। इसके बाद आप फिर से अपने मोबाइल फोन को इस्तेमाल कर सकते हैं।

दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस पहल की शुरुआत करते हुए कहा कि देश की प्रौद्योगिकी और डिजिटल प्रगति को देखते हुए मोबाइल फोन की सुरक्षा जरूरी है। इस पोर्टल www.ceir.gov.in से अपने खोए और चोरी फोन को बंद कराने के लिए अनुरोध कर सकेंगे। यही नहीं, फोन को ढूंढने योग्य जानकारियां पुलिस अधिकारियों के साथ साझा की जा सकेंगी। अगर आपका फोन मिल जाता है तो उसे अनलॉक भी किया जा सकेगा। यह परियोजना सेंट्रल इक्युपमेंट आईडेंटिटी रजिस्टर (सीईआईआर) प्रणाली द्वारा समर्थित है। दूरसंचार विभाग ने मोबाइल सुरक्षा, चोरी और अन्य दिक्कतों को दूर करने के लिए इस प्रणाली को शुरू किया है।

Share On
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *