हरीश कुमार 90 के दशक का चॉकलेटी हीरो कैसे हुआ गुमनाम

नमस्कार नारद टीवी की नई श्रंखला “गुमनाम है कोई ” के पहले एपिसोड में आप सब का स्वागत है .इस श्रंखला में हम बॉलीवुड जगत के कुछ ऐसे सितारों की जानकारी आप सब तक पहुचायेंगे जिनका एक समय में बॉलीवुड पर सिक्का चलता था लेकिन बाद में उनसे कुछ ऐसी गलतियां हुई या यूँ कह लें की किसमत ने उनका साथ छोड़ दिया जिसकी वजह से वो धीरे धीरे गुमनाम हो गए . तो वो क्या गलतियाँ रही और वो उनके करियर का कौन सा मोड़ रहा जिस पर आकर उनके स्टारडम ने उनका साथ छोड़ दिया .आज कल हम जब इन सितारों के बारे में जानने की कोशिश करते हैं तो इंटरनेट पर हमें कुछ ऐसी चीज़ें मिलती हैं .

ये सब देख कर आप लोगों को बेशक हंसी आ रही होगी लेकिन हमारे ऐसे बहुत से दर्शक हैं जो इन झूठी बातों पर विश्वाश कर लेते हैं. तो नारद टीवी की कोशिश यही है की हम अपने वीडियोस के माध्यम से इन अफवाहों को दूर करें और आप सब तक जो भी थोड़ी बहुत जानकारी पहुंचाएं वो सच्ची और सटीक हों . उम्मीद करते हैं की हमारे इस नई पहल पर आप सभी दर्शकों का भरपूर सहयोग मिलेगा .तो आइये ज्यादा समय न गवांते हुए शुरू करते हैं आज का ये एपिसोड और आज के एपिसोड में हम जानेंगे 90 के दशक के चॉकलेटी हीरो हरीश कुमार के बारे में .जी हाँ ये वही हरीश कुमार हैं जीने आप ने गोविंदा की कई फिल्मों जैसे कुली न 1 ,आंटी न. 1 जैसी फिल्मों में साइड हीरो की भूमिका में देखा होगा . मात्र 30 साल तक की उम्र तक  पहुँचते-पहुँचते इनका करियर ढलान पर आ गया था .लेकिन इन्होने अपने पूरे फ़िल्मी करियर में लगभग 300 फिल्मों में काम किया हुआ है जो की अपने आप में एक बहुत बड़ा नंबर है .तो क्या जल्दी जल्दी फ़िल्में करने या फिर बिना सोचे समझे फ़िल्में साइन करने के चक्कर में इनका करियर खत्म हुआ आइये देखते हैं .1 अगस्त 1975 को हैदराबाद में पैदा हुए हरीश कुमार ने अपने करियर की शुरुआत बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट की ,1979 में एक तमिल फिल्म मुददुला  कोडूको  से इन्होने फ़िल्मी परदे पर कदम रखा .हरीश कुमार ने इस फिल्म में श्रीदेवी के बेटे की भूमिका निभाई थी .इसके बाद तमिल ,तेलगु ,कन्नड़ और मलयालम भाषा की कई फिल्मों में इन्होने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया .1981 में इन्होने हिंदी फिल्म एक ही भूल में रेखा और जीतेन्द्र के बेटे की भूमिका निभाई थी .और इस तरह से देखा जाये तो एक ही भूल इनकी पहली बॉलीवुड फिल्म थी .उसके बाद अँधा कानून ,जीवन धारा,संसार बॉलीवुड की ये कुछ ऐसी फ़िल्में  रहीं जिसमें इन्होने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम किया .उस दौरान ये हिंदी, तेलुगु, तमिल, कन्नड़ और मलयालम फिल्मों में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट काम करने वाले इकलौते मेल एक्टर रहे हैं।हरीश कुमार ने मात्र 15 साल की उम्र में बतौर लीड एक्टर एक मलयालम फिल्म डेजी में काम किया .इस तरह से देखा जाये तो इनका बचपन शोहरत की बुलंदियों पर सवार रहा .17 साल की उम्र में इन्होने लीड हीरो के रूप में बॉलीवुड में प्रवेश किया .करिश्मा कपूर के अपोजिट फिल्म थी प्रेम कैदी .आपको बता दें  की करिश्मा कपूर की ये पहली फिल्म थी .जो की बॉक्स ऑफिस पर औसतन हिट रही .प्रेम कैदी की सफलता ने हरीश कुमार को बॉलीवुड में कई फ़िल्में दिलवायीं .1992 में फिल्म मिली तिरंगा .हालाँकि इस फिल्म के हिट होने का श्रेय राजकुमार और नाना पाटेकर को मिला लेकिन हरीश कुमार को भी इस फिल्म की सफलता से काफी फायदा हुआ .लेकिन इसी बीच इन्होने कुछ ऐसी फ़िल्में की जो बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह पिट गयीं जैसे की ज़ख्मो का हिसाब ,ज़ख़्मी रूह ,क्रांति क्षेत्र आदि .जिसका इनके करियर पर असर ये हुआ की इन्हे आगे भी मल्टीस्टारर फ़िल्में ही  मिल सकीं.इसी बीच इन्होने गोविंदा के साथ फिल्म कुली न. 1  में काम किया जो की बॉक्स ऑफिस पर सुपर हिट हुई .वैसे तो इन्होने बॉलीवुड के लगभग सभी नामी सितारों के साथ काम किया लेकिन उनमें से उनकी अधिकतर फ़िल्में फ्लॉप ही रही हाँ गोविंदा के साथ इनकी जोड़ी खूब जमी और गोविंदा के साथ इनकी फ़िल्में हिट भी रही .2002 में फिल्म आयी बुलंदी रजनीकांत जैसे सितारों की वजह से ऐसा लग रहा था की ये फिल्म खूब नाम करेगी लेकिन हुआ इसका उल्टा और ये  फिल्म भी फ्लॉप साबित रही .इसके बाद तो हरीश कुमार एकदम से बॉलीवुड से गायब ही हो गए .२००३ में इन्होने प्रोडक्शन के क्षेत्र में भी हाथ आजमाया फिल्म बनायीं काश हमारा दिल पागल न होता और इस फिल्म का हसरा भी बुरा ही हुआ .कहा ये भी जाता है कि हरीश कुमार अपने बढ़ते वजन को भी  कंट्रोल नहीं कर पा रहे थे । मोटापे की वजह से उनका लुक पूरी तरह बदल गया। शायद ये  वजह भी रही की  इन्हे  काम मिलना बंद हो गया। करीबन एक दशक बाद यानि 2011 में हरीश कुमार ने बॉलीवुड में वापसी करने की कोशिश की लेकिन कामयाबी हाथ नहीं लगी और इस तरह एक वक्त पर हिंदी फिल्मों का स्टार रहा ये हीरो पूरी तरह से गुमनामी में चला गया। 2012 तक वो फिल्मों में छोटे-मोटे किरदारों में ही नजर आए।2017 में ये परदे पर अंतिम बार नज़र आये फिल्म आ गया हीरो में लेकिन ये फिल्म भी बुरी तरह फ्लॉप हुई .सोशल मीडिया से भी हरीश कुमार इस समय गायब हैं .आने वाले समय में ये फिल्मों में नज़र आएंगे या है फ़िलहाल हमारे पास इसकी कोई जानकारी नहीं है .

https://www.youtube.com/watch?v=iyPc6IITYXg&t=10s

Writer-Anurag Suryavanshi ( Chief Editor / Founder Of Naarad TV )

 

Share On
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *