इस भारतीय गेंदबाज के नाम है लगातार 131 डॉट गेंद फेंकने का रिकॉर्ड आज है उसका जन्मदिन !!

इंग्लैंड के खिलाफ एक टेस्ट मैच में लगातार 21 ओवर मेडन करने का रिकॉर्ड बनाने वाले पूर्व भारतीय ऑलराउंडर बापू नाडकर्णी (Bapu Nadkarni) की आज यानी जन्‍म 4 अप्रैल को 87वीं जयंती है. उनका जन्‍म नासिक में हुआ था. उन्‍होंने भारत की ओर से 41 इंटरनेशनल टेस्‍ट मैच खेले थे. वहीं 191 फर्स्‍ट क्‍लास मैच खेले थे. बापू नाडकर्णी को आज भी लगातार 21 मेडन ओवर फेंकने के लिए याद किया जाता है, जिसे आज तक कोई और गेंदबाज नहीं कर पाया.

कोई गेंदबाज नहीं दोहरा सका कारनामा

बापू नाडकर्णी (Bapu Nadkarni) को लगातार 21 ओवर मेडन करने के लिए याद किया जाता है. मद्रास (अब चेन्नई) टेस्ट मैच में उनका गेंदबाजी विश्लेषण 32-27-5-0 था. उन्होंने 131 गेंदे लगातार डॉट फेंकी थी यानी इन गेंदों पर कोई भी रन नहीं बना था. बापू ने पहली पारी में सिर्फ 0.15 इकोनॉमी से रन दिए थे, जो फटाफट क्रिकेट के इस दौर में सोचना भी मुश्किल लगता है. क्रिकेट में जबसे एक ओवर में 6 गेंदे फेंकी जाने लगीं उसके बाद से लेकर आज तक कोई भी दूसरा गेंदबाज इस करिश्मे को दोहरा नहीं सका है. 54 साल से ये रिकॉर्ड बापू के नाम पर ही दर्ज है. ओवर के मामले में नाडकर्णी तो गेंद के मामले में यह रिकॉर्ड दक्षिण अफ्रीकी ऑफ स्पिनर ह्यू टेफील्ड के नाम पर है. आठ गेंद के ओवर के दौर में ह्यू टेफील्ड ने 1956-57 में लगातार 137 डॉट गेंद फेंकी थी. उन्होंने 17.1 लगातार मेडन ओवर फेंके थे.

किफायती गेंदबाज के लिए जाना जाता है

बापू नाडकर्णी (Bapu Nadkarni) को किफायती गेंदबाजी करने के लिए जाना जाता था. पाकिस्तान के खिलाफ 1960-61 में कानपुर में उनका गेंदबाजी विश्लेषण 32-24-23-0 और दिल्ली में 34-24-24-1 था.वह मुंबई के शीर्ष क्रिकेटरों में शामिल थे. उन्होंने 191 प्रथम श्रेणी मैच खेले जिसमें 500 विकेट लिए और 8880 रन बनाए. नाडकर्णी ने न्यूजीलैंड के खिलाफ दिल्ली में 1955 में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और उन्होंने अपना अंतिम टेस्ट मैच भी इसी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ 1968 में एमएके पटौदी की अगुआई में ऑकलैंड में खेला था.नाडकर्णी ने 500 फर्स्‍ट क्‍लास विकेट और 8880 रन बनाए.

इसी साल हुआ निधन
बापू नाडकर्णी  (Bapu Nadkarni) का निधन इसी साल जनवरी में हुआ था, बीमारियों के चलते 86 वर्ष में उन्‍होंने दुनिया को अलविदा कह दिया था. नाडकर्णी बाएं हाथ के बल्लेबाज और बाएं हाथ के स्पिनर थे. उन्होंने भारत की तरफ से 41 टेस्ट मैचों में 1414 रन बनाए और 88 विकेट लिए. उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 43 रन देकर छह विकेट रहा.

Source – News18 

Share On
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *