भारत और चीन (India-China Standoff) के बीच लद्दाख बॉर्डर (LAC border in Ladakh) पर पिछले कुछ महीनों से तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है. इस बीच बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्रालय (MHA) ने संसद में बयान दिया है कि पिछले 6 महीने में भारत-चीन की सीमा पर किसी तरह की घुसपैठ (Infiltration) की घटना नहीं हुई है. सरकार का ये बयान बेहद हैरान करने वाला है.

राज्यसभा में एक सांसद की ओर से सवाल पूछा गया था कि पिछले 6 महीने में पाकिस्तान और चीन की सीमा पर क्या घुसपैठ में बढ़ोतरी हुई है. जिस पर गृह मंत्रालय ने लिखित बयान दिया है. बयान में चीन सीमा पर किसी तरह की घुसपैठ ना होने की बात कही गई है. दूसरी ओर पाकिस्तान की ओर से की जा रही घुसपैठ पर गृह मंत्रालय ने आंकड़ा भी दिया है. मंत्रालय ने कहा कि पिछले 6 महीने में पाक सीमा से घुसपैठ की 47 बार कोशिश हुई है.

चीन की कोशिश LAC का उल्लंघन, पर घुसपैठ नहीं
दरअसल, सरकार के मुताबिक, लद्दाख में मौजूदा स्थिति जो बनी हुई है, उसे लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल का उल्लंघन माना जा रहा है. ऐसे में सरकार कह रही है कि ये घुसपैठ की घटना नहीं है. गृह मंत्रालय के मुताबिक, घुसपैठ शब्द का इस्तेमाल अधिकतर LoC पर आतंकियों के लिए किया जाता है.
गृह मंत्रालय ने दिया पाकिस्तान की घुसपैठ का आंकड़ा

गृह मंत्रालय की तरफ से प्रश्न के उत्तर में कहा गया है कि भारत और पाकिस्तान बॉर्डर पर फरवरी में कोई घुसपैठ नहीं हुई, मार्च में 4 बार घुसपैठ का प्रयास हुआ जो अप्रैल में बढ़कर 24 तक पहुंच गया. इसके बाद मई में 8 बार घुसपैठ की कोशिश की गई और जून में कोई मामला सामने नहीं आया, लेकिन जुलाई में एक बार फिर से घुसपैठ की कोशिश के 11 मामले सामने आए हैं.

घुसपैठ को रोकने के लिए सरकार ने उठाए कई कदम
गृह मंत्रालय के जवाब में यह भी कहा गया है कि सीमा पर घुसपैठ को रोकने के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं, जिनके तहत सीमा पर तैनाती बढ़ाई गई है. इंटेलिजेंस को मजबूत किया गया है. कई जगहों पर कंटीले तार लगाए गए हैं और घुसपैठियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है.
बता दें कि 29-30 अगस्त की रात को चीन के सैनिकों ने पैंगोंग झील के दक्षिणी इलाके में स्थित मुखपारी पहाड़ी और रेजांग ला पर कब्जा करने की कोशिश की थी, जिसे भारतीय सैनिकों ने नाकाम कर दिया था. तब से ही दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने हैं और तनाव बढ़ा है. इसके बाद चीन ने एक सितंबर को भी घुसपैठ की नाकाम कोशिश की थी.

SOURCE – NEWS18 

Share On
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *